Triangle ABC is congruent to triangle DCE by… SSS AAS ASA SAS

Triangle ABC is congruent to triangle DCE by...
SSS
AAS
ASA
SAS


[tex]Triangle ABC is congruent to triangle DCE by... SSS AAS ASA SAS[/tex]

Related Posts

This Post Has 12 Comments

  1. Cthe residual plot for model 1 has a non random pattern and is a good fit for the data
    [tex]Ineed an answer ! the table below shows the relationship between the diameter, x, in inches, and th[/tex]

  2. A dilation factor of 1 over 2

    Step-by-step explanation:

    The smaller polygon is half the size of the original polygon

  3. B

    Step-by-step explanation:

    angles B and D are the same and angles BCA and DCE are the same, so CED and CAB are the same because all triangles add up to 180 degrees

  4. ANSWER⤵️⤵️⤵️

    ✍✍✍✍The Council of Ministers comprises Ministers who are members of Cabinet, Ministers of State (independent charge), Ministers of State and Deputy MinistersIf the President is satisfied, based on the report of the Governor of the concerned state or from other sources, that the governance in a state cannot be carried out according to the provisions in the Constitution, he/she may declare an emergency in the stateIf the President is satisfied, based on the report of the Governor of the concerned state or from other sources, that the governance in a state cannot be carried out according to the provisions in the Constitution, he/she may declare an emergency in the stateThe Council is collectively responsible to the Lok Sabha. It is the duty of the Prime Minister to communicate to the President all decisions of Council of Ministers relating to administration of affairs of the Union and proposals for legislation and information relating to them.When a general election does not produce a clear majority for a single party, parties either form coalition cabinets, supported by a parliamentary majority, or minority cabinets which may consist of one or more parties.When a general election does not produce a clear majority for a single party, parties either form coalition cabinets, supported by a parliamentary majority, or minority cabinets which may consist of one or more parties.पनडुब्बी में ऑक्सीज़न बनाने की क्षमता

    ये एक ऐसी पनडुब्बी है जिसे लंबी दूरी वाले मिशन में ऑक्सीजन लेने के लिए सतह पर आने की ज़रूरत नहीं है. इस तकनीक को डीआरडीओ के नेवल मैटेरियल्स रिसर्च लैब ने विकसित किया है.

    उदय भास्कर बताते हैं, "इस सबमरीन में एयर इंडिपेंडेंट प्रॉपल्शन तकनीक है जिसकी मदद से सबमरीन के अंदर ही ऑक्सीज़न बनाई जा सकती है. ये हमारे डीआरडीओ ने विकसित की है. पुरानी पनडुब्बी करंज के मुकाबले नई करंज में एआईपी को शामिल किया गया है. दरअसल, जब हम पनडुब्बी को बैटरी से चलाते हैं तो बैटरी को रिचार्ज करने के लिए पनडुब्बी को सतह पर आना पड़ता है. क्योंकि डीज़ल इंजन से हम बैटरी को चार्ज करते हैं और डीज़ल इंजन चलाने के लिए आपको ऑक्सीज़न की जरूरत होती है. लेकिन एयर इंडिपेंडेंट प्रॉपल्शन एक ऐसी तकनीक है जिसकी मदद से पनडुब्बी को बैटरी चार्ज करने के लिए सतह पर आने की ज़रूरत नहीं पड़ती है."

    पनडुब्बी में ऑक्सीज़न बनाने की क्षमता

    ये एक ऐसी पनडुब्बी है जिसे लंबी दूरी वाले मिशन में ऑक्सीजन लेने के लिए सतह पर आने की ज़रूरत नहीं है. इस तकनीक को डीआरडीओ के नेवल मैटेरियल्स रिसर्च लैब ने विकसित किया है.

    उदय भास्कर बताते हैं, "इस सबमरीन में एयर इंडिपेंडेंट प्रॉपल्शन तकनीक है जिसकी मदद से सबमरीन के अंदर ही ऑक्सीज़न बनाई जा सकती है. ये हमारे डीआरडीओ ने विकसित की है. पुरानी पनडुब्बी करंज के मुकाबले नई करंज में एआईपी को शामिल किया गया है. दरअसल, जब हम पनडुब्बी को बैटरी से चलाते हैं तो बैटरी को रिचार्ज करने के लिए पनडुब्बी को सतह पर आना पड़ता है. क्योंकि डीज़ल इंजन से हम बैटरी को चार्ज करते हैं और डीज़ल इंजन चलाने के लिए आपको ऑक्सीज़न की जरूरत होती है. लेकिन एयर इंडिपेंडेंट प्रॉपल्शन एक ऐसी तकनीक है जिसकी मदद से पनडुब्बी को बैटरी चार्ज करने के लिए सतह पर आने की ज़रूरत नहीं पड़ती है."

    When a general election does not produce a clear majority for a single party, parties either form coalition cabinets, supported by a parliamentary majority, or minority cabinets which may consist of one or more parties.पनडुब्बी में ऑक्सीज़न बनाने की क्षमता

    ये एक ऐसी पनडुब्बी है जिसे लंबी दूरी वाले मिशन में ऑक्सीजन लेने के लिए सतह पर आने की ज़रूरत नहीं है. इस तकनीक को डीआरडीओ के नेवल मैटेरियल्स रिसर्च लैब ने विकसित किया है.

    उदय भास्कर बताते हैं, "इस सबमरीन में एयर इंडिपेंडेंट प्रॉपल्शन तकनीक है जिसकी मदद से सबमरीन के अंदर ही ऑक्सीज़न बनाई जा सकती है. ये हमारे डीआरडीओ ने विकसित की है. पुरानी पनडुब्बी करंज के मुकाबले नई करंज में एआईपी को शामिल किया गया है. दरअसल, जब हम पनडुब्बी को बैटरी से चलाते हैं तो बैटरी को रिचार्ज करने के लिए पनडुब्बी को सतह पर आना पड़ता है. क्योंकि डीज़ल इंजन से हम बैटरी को चार्ज करते हैं और डीज़ल इंजन चलाने के लिए आपको ऑक्सीज़न की जरूरत होती है. लेकिन एयर इंडिपेंडेंट प्रॉपल्शन एक ऐसी तकनीक है जिसकी मदद से पनडुब्बी को बैटरी चार्ज करने के लिए सतह पर आने की ज़रूरत नहीं पड़ती है."

    स्कॉर्पीन श्रेणी की पनडुब्बी आईएनएस करंज में ऐसी तकनीक का इस्तेमाल किया गया है जिससे दुश्मन देशों की नौसेनाओं के लिए इसकी टोह लेना मुश्किल होगा.

    इन तकनीकों में अत्याधुनिक अकुस्टिक साइलेंसिंग तकनीक, लो रेडिएटेड नॉइज़ लेवल, हाइड्रो डायनेमिकली ऑपटिमाइज़्ड शेप शामिल है.

    पनडुब्बी को बनाते हुए पनडुब्बियों का पता लगाने वाले कारणों को ध्यान में रखा गया है जिससे ये पनडुब्बी ज़्यादातर पनडुब्बियों की अपेक्षा सुरक्षित हो गई है.

    रक्षा मामलों के जानकार उदय भास्कर ने बीबीसी से बात करते हुए बताया, "पनडुब्बियों का पता लगाने के लिए सोनार तकनीक का इस्तेमाल किया जाता है. इस पनडुब्बी के लक्षण कुछ बेहतर हैं. मेटलर्जी से स्टेल्थ तकनीक के लक्षण बढ़ाए जा सकते हैं. सामान्य रूप से पनडुब्बी अपनी आवाज़ की वजह से पकड़ा जाता है, लेकिन इस पनडुब्बी में आवाज़ को काफ़ी कम किया गया है"

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *